सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

joe biden biography in hindi | जो बिडेन बायोग्राफी | जो बिडेन कौन है

जो बिडेन का जीवन परिचय (Joe Biden Biography, Birth, Age, Net Worth, Wife, Politician, Son in Hindi)





 जो बिडेन का प्रारंभिक जीवन:-  

जोसेफ रॉबिनेट बिडेन  का जन्म 20 नवंबर 1942 को पेंसिल्वेनिया में हुआ था। 10 साल की उम्र में वह अपने परिवार के साथ विलमिंगटन, डेलावेयर चले गए। जहाँ उनके पिता ने एक कार सेल्समैन के रूप में काम करते थे। उनके दो बच्चे थे, एक लड़का और लड़की, जिनमे जो बिडेन बड़े थे। जो बिडेन ने शुरुआती शिक्षा  कुलीन हाई स्कूल से प्राप्त की थी। वह स्कूल मे औसत दर्जे के विद्यार्थी थे, लेकिन स्कूल मे वह स्पोर्ट मे बहुत अच्छे थे। 1965 में उन्होंने डेलावेयर विश्वविद्यालय से इतिहास और राजनीति विज्ञान में  स्नातक की डिग्री हासिल की। और तीन साल बाद उन्होंने सिरैक्यूज़ विश्वविद्यालय से लॉ की डिग्री हासिल की। 1966 मे जो बिडेन की सादी नीलिया हंटर से हुई, जिनके साथ उनके तीन बच्चे हुए। जिनके नाम  हंटर बिडेन, बीयू बिडेन, नओमि बिडेन। 

1972 मे 29 साल की उम्र में, जो बिडेन संयुक्त राज्य अमेरिका के सबसे कम उम्र के सीनेट बने थे। लेकिन यह खुशी जय्दा दिन नहीं रह पाई क्योंकी सीनेट बनने के कुछ दिनों के ही बाद  उनकी पत्नी नेलिया  और बेटी नाओमी की कार दुर्घटना मे मृत्यु होगई थी। और उनके दोनों बेटे गंभीर रूप से घायल होगए थे।   

(Joe biden biography in hindi)

वर्षों बाद, जो बिडेन ने 2015 मे इस घटना के बारे बात करते हुए बताया की 1972 में वह डेलावेयर के सीनेटर पद की लिए चुने गए थे। और वह जब वह पद ग्रहण करने की प्रतीक्षा कर रहे थे। तब उन्हें पुलिस का फोन आया और उन्होंने कहा। आपकी पत्नी और तीन बच्चे क्रिसमस की खरीदारी करने के लिए बाजार जा रहे थे। तब एक ट्रैक्टर-ट्रेलर से उनकी कार का एक्सीडेंट हो गया। जिसमे आपकी पत्नी और बच्ची की मृत्यु होगई है और दोनों लड़के बुरी तरह घायल है। 

 एक्सीडेंट के वक्त जो बिडेन की पत्नी 30 साल की थी और नाओमी सिर्फ एक साल की थी। और  उनके  बेटे हंटर और ब्यू क्रमशः चार और तीन साल के थे। जब उन्हें पता चला वह सपथ ग्रहण छोड़कर अपने बेटों के पास पहुंच गये थे। बेटों की हालत बहुत खराब थी उन्हें हॉस्पिटल मे बहुत दिन लगने वाले थे। तब उन पर  सपथ ग्रहण करने का दबाव बनने लगा लेकिन वह अपने बेटों को छोड़कर जाना नहीं चाहते थे। इसलिए उन्हें हॉस्पिटल मे ही उनके बेटों के बेड के बगल मे ही रह कर सपथ ग्रहण करवाया गया।   

वह 2012 मे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस मे बताते है, नीलिआ और नाओमी के गुजरने के बाद का समय उनके  लिए काफी मुश्किल था, क्योंकि उन्हें अब सीनेटर का भी कार्य करना था और बच्चों को भी सम्हलना था। और बच्चे अपनी माँ और बहन के बारे मे पूछते थे, लेकिन वह कुछ नहीं बता पाते थे उन्हें। 

वह समय उनके लिए इतना मुश्किल हो चूका था की वह  आत्म  हत्या करने के बारे मे सोचने लगे थे। लेकिन वह अपने बच्चों के बारे मे सोच कर रुक जाते थे क्योंकी उनके बाद उनके बच्चों की देखभाल करने के लिये कोई नहीं था। फिर उन्होंने ठान  लिया की अब कभी इस तरह नहीं सोचेंगे। और अपने काम और बच्चों के बीच समन्वय बना कर रखेंगे। फिर 1975 में जो बिडेन की मुलाकात जिल जैकब्स के साथ हुई, जिनसे उन्हें प्यार मिला, जिसकी उन्हें सख्त जरूरत थी।

 उन्होंने सोचना शुरू कर दिया कि परिवार फिर से पूरा हो सकता है। 
फिर उन्होंने 1977 में शादी कर ली और 1981 में एक बेटी का जन्म हुआ, जिसका नाम एश्ले बिडेन है। अमेरिकी सीनेटर के रूप में उनकी भूमिका के अलावा,जो बिडेन विडिंगर यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ लॉ की शाखा विलिंगटन, डेलावेयर में एक सहायक प्रोफेसर (1991-2008) भी थे।


जो बिडेन का राजनैतिक जीवन :- 


डेलावेयर से अमेरिकी सीनेटर के रूप में 36 साल बिताने के बाद जो बिडेन अमेरिका के उपराष्ट्रपति बने थे। डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बराक ओबामा ने उन्हें 2008 मे उन्हें अपना उपराष्ट्रपति पद पर चुना।  उन्होंने 2008 मे बराक ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद दो कार्यकाल के लिए उपराष्ट्रपति  के रूप में काम किया। जो बिडेन ने उपराष्ट्रपति बनने के बाद  बड़े पैमाने पर आर्थिक और विदेश नीति पर ध्यान केंद्रित किया था। उन्होंने उपराष्ट्रपति के तौर पर बेहतरीन काम किया था। इसलिए 2020 में अक्टूबर मे होने वाले चुनाव मे उन्हे डोनाल्ड ट्रम्प के सामने राष्ट्रपति पद का उमीदवार चुना गया है। 

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन को बहुमत मिलने के बाद जीत मिल गई है। वह अमेरिका के राष्ट्रपति बन गए हैं। वह 46वें अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे। जिन्होंने सबसे उम्रदराज राष्ट्रपति बनकर इतिहास रच दिया है। ऐसे अमेरिकी राजनेता हैं, जिन्होंने सबसे युवा सेनेटर में अपनी जगह बनाई और उसके बाद आज अमेरिका के राष्ट्रपति बन रहे हैं।

अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बिडेन (America President Joe Biden) :-


अमेरिका की राजनीति में पांच दशकों तक अपनी राजनीति चमकाने वाले सबसे युवा सीनेटर से लेकर सबसे उम्रदराज अमेरिकी राष्ट्रपति बनने तक का सफर तय करने वाले जो बाइडन ने इतिहास रच दिया। छह बार सीनेटर रहे और अब अमेरिका के नए राष्ट्रपति बन गए हैं। बिडेन को 290 वोट मिले हैं और ट्रंप को 214 वोट।

जो बाइडेन ने भारतीय मूल की  कमला हैरिस को अपने उपराष्ट्रपति के लिए क्यों चुना :- 


अमेरिका के राष्ट्रपति पद के उमीदवार जो बाइडेन ने भारतीय मूल की कमला हैरिस को अपने उपराष्ट्रपति पद के लिये चुना है।   बाइडेन ने कमला हैरिस की तारीफ करते हुये कहा वह एक  बहादुर योद्धा और अमेरिका के  बेहतरीन नेताओं में से एक बताया। जो बिडेन अमेरिका मे रह रहे भारतीय मूल के लोगों और अफ्रीकन लोगों को लुभाने के कमला हैरिस को चुना। क्योंकी कमला हैरिस के पिता अफ़्रीकी मूल के अमेरिकी नागरिक थे और माँ भारतीय थी। जिनकी टोटल आबादी अमेरिका मे 22% है, जो किसी की भी हार को जीत मे बदल सकते है। 

जो बिडेन ने भारत के लिए कैसा रुख रखते है:- 


अमेरिका वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भारत की हर छेत्र मे मदद करते है, चाहे पाकिस्तान का मामला हो या चीन का। जैसे पाकिस्तान के आतंक का मामला हो, धारा 370 हो और चीन के साथ गलवान घाटी विवाद हो हमेशा भारत का साथ दिया। अब जो बिडेन ने भी भारत का साथ देने की घोषणा की। जो बिडेन ने भी सीधे और सपाट लहजे में भारत से दोस्ती की बात की है। बिडेन ने कहते है कि अगर वह जीतते हैं तो उनका प्रशासन भारत के साथ देगा और अमेरिकी संबंध को और मजबूती देगा। 

बिडेन ने पाकिस्तान का नाम लिये बगैर कहा कि भारत जो सरहद पर आतंकी  चुनौतियां झेल रहा है, अमेरिका आतंक खत्म करने के लिए साथ खड़ा रहेगा। भारत अब इतना मजबूत हो चूका चाहे ट्रम्प हो या बिडेन हो वह भारत का साथ देंगे ही। 


दरअसल अमेरिका में  41 लाख भारतीय मूल के लोग रहते है। जिनमे से 15 लाख वोट डाल सकते है। ये 15 लाख वोटर  राष्ट्रपति चुनाव में बड़ा उलट फेर कर सकते है। साथ ही अमेरिका मे रह रहे भारत के लोग सिर्फ वोटर बस नहीं है, वहां बड़े-बड़े बिजनेस मैन और बड़े सीइओ भारतीय है, जो किसी की भी जीत मे अहम् भूमिका निभा सकते है।  कहाँ जाता है वहां यहूदी लॉबी के बाद सबसे मजबूत लॉबी भारत की है जो अमेरिका के चुनाव मे बड़े उलट फेर करने का माद्दा रखती  है। यही वजह है कि ट्रम्प और बिडेन भारतीय मूल के वोटरों  को रिझाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे थे।


जो बिडेन का संछिप्त परिचय | Joe biden biography in hindi


जो बिडेन का पूरा नाम - जोसेफ रोबीनेट बिडेन 


जो बिडेन की जन्मतिथि - 20 नवंबर 1942


जो बिडेन की आयु - 77 वर्ष


जो बिडेन का जन्म स्थान - पेंसिलवेनिया, स्कैंटन, यूनाइटेड स्टेट


जो बिडेन की राशि - वृश्चिक 


जो बिडेन की राष्ट्रीयता - अमेरिकन


जो बिडेन का होमटाउन - स्कैंटन पेंसिलवेनिया, यूनाइटेड स्टेट 


जो बिडेन का स्कूल - सेंट पॉल एलिमेंट्री स्कूल 


जो बिडेन का कॉलेज - यूनिवर्सिटी ऑफ डेलवेयर -सिराकस यूनिवर्सिटी


जो बिडेन की शैक्षणिक योग्यता -बीए -जूरिस डॉक्टर


जो बिडेन का धर्म - कैथोलिक 


जो बिडेन का पेशा - पॉलीटिशियन, लॉयर


जो बिडेन की पॉलीटिकल पार्टी - डेमोक्रेटिक


जो बिडेन की हाईट - 6 फुट


जो बिडेन का वजन - 82 किलो


जो बिडेन के आंखों का रंग - नीला


जो बिडेन बालों का रंग - ग्रे


जो बिडेन के पिता का नाम - जोसेफ बिडेन


जो बिडेन की माँ का नाम - कैथरीन यूजेनिया जीन फिगनेगन


जो बिडेन की पत्नी का नाम - नीलिया हंटर, जिल जैकब्स  

 

जो बिडेन के बच्चे - हंटर बिडेन, बीयू बिडेन, नओमि बिडेन, एश्ले बिडेन


जो बिडेन का पद :- संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति (2008-2017), राष्ट्रपति (2020)


जो बिडेन की संपत्ति :- 27 मिलियन डॉलर


 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

rahul sharma(micromax) biography in hindi | राहुल शर्मा जीवन परिचय| micromax story in hindi

Kamala Harris biography in hindi | कमला हैरिस की जीवनी | कमला हैरिस का जीवन परिचय

Dilip Shanghvi biography in hindi | दिलीप संघवी की जीवनी | Dilip Shanghvi success story in hindi

jr ntr biography in hindi | जूनियर एनटीआर जीवनी

harshad mehta biography in hindi | हर्षद मेहता का जीवन परिचय | harshad mehta scam 1992