सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Vladimir putin biography in hindi | history of vladimir putin in hindi | पुतिन की बायोग्राफी


Vladimir putin biography in hindi | history of vladimir putin in hindi | व्लादिमीर पुतिन की बायोग्राफी




व्लादमीर पुतिन रुस के वर्तमान राष्ट्रपति है।पुतिन पहली बार  1999 मे रूस के प्रधानमंत्री बने। उसके बाद साल 2000 मे पहली बार राष्ट्रपति बने और 2008 तक राष्ट्रपति रहे। 2008 से 2012 तक फिर प्रधानमंत्री चुने गये। और 7 मई 2012 से  अभी तक रूस के राष्ट्रपति है। पुतिन अपने देश के ही नहीं पूरी दुनिया सबसे ताकतवर नेता है।

पुतिन रूस पर अपना दबदबा बनाए रखने के लिए कभी राष्ट्पति बनते है तो कभी प्रधानमंत्री। रूस का मुख्य कार्यकारी नेता राष्ट्पति होता है। जैसा भारत मे प्रधानमंत्री होता है। लेकिन पुतिन दो दशक से रूस का नेतृत्व कर रहे है चाहे राष्ट्पति बनकर करें या प्रधानमंत्री बनकर  करें।

व्लादिमीर पुतिन

नाम:- व्लादिमीर पुतिन

जन्म:- 7 अक्टूबर 1952 मे, सेन्ट पीटर्सबर्ग

पिता:- स्पीरीदोनोविच पुतिन

माता:- मरिया सेलोमोवा

भाई:- विक्टर और अल्बर्ट

शिक्षा:- लेनिनग्राद राजकीय विश्विविद्यालय

पत्नी:- ल्यूडमिला शकरेबनेवा

बच्चे:- मारिया पुतिन और एकातेरिना पुतिन



व्लादिमीर पुतिन का प्रारम्भिक जीवन :-


व्लादमीर पुतिन का जन्म 7 अक्टूबर 1952 मे सेन्ट पीटर्सबर्ग, रूस मे हुआ था। उनके पिता का नाम स्पीरीदोनोविच पुतिन था , और माँ का नाम मरिया सेलोमोवा था। उनके तीन बच्चे थे जिसमे पुतिन तीसरे पुत्र थे। पुतिन दोनो बड़े भाई( विक्टर और अल्बर्ट ) का बचपन मे देहांत होगया था। पुतिन के पिता नेवी मे थे, और माँ फैक्टरी मे काम करती थी।


द्वितीय विश्व युद्ध मे पुतिन के पिता पनडुब्बी के हमलावर दस्ते मे थे। द्वितीय विश्व युद्ध के खत्म होने के बाद पुतिन के पिता सेवा निवित्त होगए और लेनिनगार्द (आज का पीटर्सबर्ग) मे एक कारखाने मे काम करने लगे। पुतिन की शुरुआती शिक्षा सेंट पीटर्सबर्ग के लोकल स्कूल से प्राप्त की थी। पुतिन पढ़ने मे बहुत
अच्छे थे और वह बचपन से ही गंभीर स्वाभाव के थे। उन्होंने बचपन से ही जुडो और सेम्बो की ट्रेनिंग शुरु कर दी थी। जुडो मे इन्हें ब्लैक बेल्ट मिला है।


उनके पिता चाहते थे पुतिन भी आर्मी मे जाये, पर उनकी माँ ऐसा नहीं चाहती थी। पुतिन अभी आगे पढ़ना चाहते थे, उनकी माँ भी चाहती थी पुतिन और पढ़े इसलिए उन्होंने लेनिनग्राद राजकीय विश्विविद्यालय मे एडमिशन लिया। और 1975 मे लॉ डिग्री हासिल की। 28 जुलाई 1983 मे पुतिन ने ल्यूडमिला शकरेबनेवा से सादी कर ली। इनकी दो बच्चिया है जिनके नाम मारिया पुतिन और एकातेरिना पुतिन है।


पुतिन ने केजीबी मे कैसे ज्वाइन किया:-


डिग्री हासिल करने के कुछ दिन बाद ही उन्होने केजीबी ज्वाइन कर ली। पुतिन का केजीबी ज्वाइन करने की कहानी भी फिल्म जैसी है पुतिन जब छोटे थे तब वह फिल्म देखना बहुत पसंद था। उन्हें जासूसी फिल्म देखने का बहुत शौक था। वह इन फिल्मों से इतने प्रभावित हुये की 16 साल की उम्र मे वह रूस की गुप्तचर संस्थान केजीबी के ऑफिस पहुंच गये।

वहां के अफसरों से उन्होंने बोला मुझे ज्वाइन करना है। केजीबी के अफसरों ने मजाक समझ कर उन्हें बोला बच्चे जब आप बड़े होजाए तब आना। तब तो पुतिन वापस चले गये, लेकिन इस बात को वह नहीं भुले। सात साल बाद जब उन्होंने 1975 मे अपना स्नातक पूरा किया उसके कुछ दिनों बाद ही उन्होंने केजीबी ज्वाइन कर ली। उन्होंने 16 साल तक केजीबी मे अधिकारी के रूप मे काम किया। जहाँ वह लेफ्टिनेंट कर्नल के पद से 1991 मे सेवा निवित्त हुये।

पुतिन का प्रधानमंत्री के रूप मे पहला कार्यकाल :-


पुतिन ने 1996 मे राजनीती मे कदम रखा। बोरिस येल्तसिन रूस के तत्कालीन राष्ट्पति के साथ उनके प्रसासन मे शामिल होगए। और पहली बार प्रधानमंत्री बने।

येल्तसिन बहुत जय्दा करप्ट नेता थे, 1999 मे उनका बहुत जय्दा विरोध होने लगा। विरोध के कारण उन्होंने 1999 मे इस्तीफा दे दिया। उसके बाद उन्होंने अपना पद 31 दिसंबर 1999 मे पुतिन को दे दिया। पुतिन प्रधानमंत्री थे अब उन्हें प्रधानमंत्री के साथ कार्यवाहक राष्ट्पति भी बना दिया गया।

राष्ट्रपति के रूप पहला कार्यकाल :-


पुतिन ने साल 2000 मे अपना पहला राष्ट्पति चुनाव जीता, तब वह पहली बार पूर्ण कलिक राष्ट्पति बने। इस चुनाव मे पुतिन को 53% वोट मिले थे। पुतिन ने अपने पहले कार्यकाल मे बहतरीन काम किया रूस की गिरती अर्थ व्यवस्था और गिरती साख को पुनः ऊपर पहुंचाया। सोवियत संघ के विघटन के बाद रूस को कमजोर समझा जाने लगा था। लेकिन पुतिन ने पुनः रूस को बुलंदियों मे पहुंचाया।

पुतिन का राष्ट्रपति के रूप मे दूसरा कार्यकाल :-


जिससे रूस की जनता ने उन्हें फिर से 2004 मे राष्ट्रपति चुनाव जिताया। इस चुनाव मे तो पुतिन को पहले चुनाव से ज्यादा 72% वोट मिले थे। पुतिन ने अपने दूसरे कार्यकाल मे भी बेहतरीन काम किया। लेकिन रूस के संविधान के अनुसार कोई भी राष्ट्पति लगातार तीन बार राष्ट्पति नहीं बन सकता था। इसलिए उन्होंने 2008 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने विस्वास पात्र सहायक दिमित्री मेदवेदेव को राष्ट्पति पद के लिए चुना।

पुतिन प्रधानमंत्री के रूप मे दूसरा कार्यकाल :-


पुतिन का सहायक होने के कारण दिमित्री मेदवेदेव को जनता का भारी समर्थन मिल रहा था। वह बड़ी आसानी से चुनाव जीत गये। और उन्होंने पुतिन को अपना प्रधानमंत्री चुना। पुतिन भले ही राष्ट्पति नहीं थे लेकिन सरकार मे उनकी ही चलती थी। दिमित्री मेदवेदेव के कार्यकाल के खत्म होने से पहले साल 2011 मे पुतिन के कहने पर
मेदवेदेव ने रूस के संविधान मे कई बदलाव किये।


जिसके परिणाम स्वरुप रूस मे राष्ट्रपति के कार्यकाल चार साल से बढ़ाकर छः साल कर दिया गया। लेकिन इस तरह संविधान मे किये गये। सभी जानते थे पुतिन करवा रहे है और अगली बार फिर से राष्ट्रपति बनने के लिये वह यह सब कर रहे है। बदलाव से जनता के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। शहर-शहर मे इस बदलाव के विरोध मे प्रदर्शन किये गये। लेकिन पुतिन विरोध मे कोई बड़ा राजनेता खड़ा नहीं हो सका जिससे यह विरोध कुछ दिन मे ही खत्म होगया।

पुतिन का राष्ट्रपति के रूप मे तीसरा कर्यकाल :-


2012 मे पुतिन राष्ट्रपति पद के तीसरे चुनाव के लिये फिर खड़े हुये। और मार्च 2012 मे उन्होंने यह चुनाव जीत कर तीसरी बार राष्ट्रपति बने। लेकिन इस बार उनकी लोकप्रियता मे कमी आई और पिछली बार से कम 64% वोट प्राप्त हुये। अब वह 4 साल की जगह 6 साल तक राष्ट्रपति रह सकते थे। इस कार्यकाल मे उनपर कई घोटालों के आरोप लगे, और उन्हें दुनिया का सबसे अमीर नेता कहाँ जाने लगा, लेकिन पुतिन ने कभी यह बात नहीं स्वीकारा की उन्होंने घोटाले किये है।

इस बार पुतिन को अपने देश से ही नहीं दूसरे देशों से भी चुनौती मिल रही थी। सीरिया मे अमेरिका और रूस कोल्ड वॉर के बाद पहली बार सामने आगये थे। क्योंकी अमेरिका 'बशर अल असद' की सरकार गिरना चाहता था और रूस ऐसा नहीं होने देना चाहता था। अमेरिका रूस से तो सीधे नहीं भिड़ सकता था।


ऐसे मे अमेरिका सीरिया के विद्रोहीयों को हथियार और पैसे देने लगा तो रूस भी बशर अल असद की सरकार को बचाने के लिए सीरिया की आर्मी को पैसे और हथियार देने लगा। पुतिन की रड़नीति काम कर गई और अमेरिका बशर अल असद की सरकार नहीं गिरा पाया। इससे पुतिन की छवि पूरी दुनिया मे मजबूत हुई और रूस मे वह और भी अधिक माने जाने लगे।

पुतिन का राष्ट्रपति के रूप मे चौथा कार्यकाल :-


इस बात का अंदाजा तब लगा जब पुतिन 2018 मे के चुनाव मे खड़े थे। पुतिन अपने राष्ट्पति के चौथे कार्यकाल के लिये 2018 मे फिर चुनाव मे खड़े हुये। इस बार तो उनके सामने कोई नहीं टिक पाया और उन्होंने इतिहास बनाते हुये 81% मत के साथ चुनाव जीता। और पुतिन चौथी बार रूस के राष्ट्रपति बने। और वह 2020 मे भी रूस के राष्ट्पति है। और 2024 तक वह राष्ट्रपति रहने वाले है।

इन्हे भी देखें -

ऐसा नहीं है की रूस मे पुतिन ने सब अच्छा ही किया है। उनके साथ कई विवाद भी जुड़े है। उन्हें रूस का सबसे करप्ट नेता और दुनिया का सबसे अमीर व्यक्ति कहाँ जाता है। लेकिन कोई साबित नहीं कर पाया। कर भी कैसे पाता है कहाँ जाता है जो भी उनके वरोध मे खड़ा होता है उन्हें गायब कर दिया जाता है या फिर मार ही दिया जाता है। फिर भी रूस की जनता पुतिन को चुनती है क्योंकी उन्होंने रूस को जिन हालतों से निकाला है वह बहुत मुश्किल काम था।

पुतिन की अमीरी का अंदाजा आप उनकी लग्जरी लाइफ स्टाइल से लगा सकते है। पुतिन के पास एक या दो नहीं 43 ऐरोप्लेन , 5 सुपर यॉट, 15 हेलीकाप्टर, 83 कार (जिनमे से जय्दातर सुपर कार है), 20 पैलेसे है। एक पैलेस तो इनके पास ऐसा है जिसके सामने बड़े-बड़े होटल भी कही नहीं टिकते। हलाकि पुतिन बोलते है ऐसा कुछ नहीं है ये सब गलत है। मुझे फसाने के लिये मेरे विरोधी यह सब फैलाते है। पुतिन ने 2014 मे यह बताया की उनके पास सिर्फ 1 एकड़ जमीन है, 900 फिट का घर है, और 200 फिट का एक गरज है, जिसमे उनकी एक कार है। बांकी सब जो आप देखते है वह मुझे राष्ट्रपति के तौर पर मिला है।


((यहाँ पर हमनें आपको व्लादमीर पुतिन के जीवन के बारे में बताया, यदि आपको व्लादमीर पुतिन के बारे मे और कोई  जानकारी चाहिए या आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है। ))

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Kamala Harris biography in hindi | कमला हैरिस की जीवनी | कमला हैरिस का जीवन परिचय

Kamala Harris biography in hindi | कमला हैरिस की जीवनी | कमला हैरिस का जीवन परिचय


नाम - कमला हैरिस
पूरा नाम:- कमला देवी हैरिस 
जन्म - 20 अक्टूबर 1964 
शिक्षा - हावर्ड विश्वविद्यालय (बीए) कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉ 
जन्म स्थान - ऑकलेण्ड, केलिफोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका
पति - डूगल्स एम्हॉफ
पिता का नाम - डोनाल्ड हैरिस,  जमैका 
माता का नाम - श्यामला गोपालन हैरिस, भारत 
बहिन - माया हैरिस 
नागरिकता - अमेरिकी 
मूल - भारतीय 
राजनीतिक दल - डेमोक्रेटिक पार्टी

कमला हैरिस की चर्चा इस समय  देश विदेशों मे क्यों हो रही है:-
कमला हैरिस को अमेरिका के चुनाव में  डमोक्रेटिक पार्टी ने उप राष्ट्रपति का उमीदवार बनाया है। भारतीय मूल की पहली उपराष्ट्रपति उमीदवार है। अमेरिका मे भारतीय मूल की ही नही पुरे एशिया की पहली उपराष्ट्रपति पद की टिकट पाने वालीं पहली महिला है। 

कमला हैरिस का प्रारम्भिक जीवन :-
कमला देवी हैरिस का जन्म 20 अक्टूबर 1964 मे ऑकलेण्ड, केलिफोर्निया, अमेरिका मे हुआ था। शुरुआती शिक्षा उन्होंने ऑकलेण्ड के एक स्कूल से प्राप्त की ओर उच्च शिक्षा के लिए वह  हावर्ड यूनिवर्सिटी गई। और वहां  से स्नातक की डिग्री …

Narendra modi biography in hindi | नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय

Narendra modi biography in hindi | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का जीवन परिचय | नरेन्द्र मोदी की जीवनी 



मोदी भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं जिनका जन्म 'स्वतंत्र भारत' में हुआ था, यानी 15 अगस्त, 1947 के बाद। वे पहले भारतीय प्रधानमंत्री भी हैं, जिनकी माँ पद संभालने के समय जीवित थीं। उनके पास सर्वाधिक मार्जिन (लगभग 5.70 लाख वोट ) द्वारा लोकसभा सीट जीतने का रिकॉर्ड है।
नरेंद्र दामोदरदास मोदी भारत के 14वें प्रधानमंत्री हैं। जिन्होंने 2014 में और फिर 2019 में भारतीय जनता पार्टी की प्रभावशाली जीत का नेतृत्व किया। मोदी के बारे में एक दिलचस्प तथ्य यह है कि वह पहली बार विधायक के रूप में गुजरात के मुख्यमंत्री बने। इसी तरह वह पहली बार सांसद के रूप में सीधे भारत के प्रधानमंत्री बने। 2014 में बीजेपी की बहुमत से जीत के लिये मोदी को श्रेय दिया जाता है और यह साल 1984 के बाद पहली बार हुआ था।
पूरा नाम :- नरेन्द्र दामोदर दास मोदी 
पिता :- दामोदर दास मोदी 
माता :- हिराबेन 
पत्नी :- जसोदा बेन 
पद :- 4 बार मुख्यमंत्री , 2बार प्रधानमंत्री 
रोचक तथ्य :- नरेंद्र मोदी कभी कोई भी चुनाव नहीं हरे। 
प्रधानमंत्री म…

joe biden biography in hindi | जो बिडेन बायोग्राफी | जो बिडेन कौन है

joe biden biography in hindi | जो बिडेन बायोग्राफी



पूरा नाम:- जोसेफ रॉबिनेट बिडेन
जन्म :- 20 नवम्बर 1942 स्क्रैन्टन, पेन्सिलवेनिया
पत्नी :- नीलिया हंटर, जिल जैकब्स
बच्चे :- हंटर बिडेन, बीयू बिडेन, नओमि बिडेन, एश्ले बिडेन
राजनीतिक पार्टी :- डोमेक्रेटिक  पार्टी
पद :- संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति (2008-2017), लोकतांत्रिक पार्टी से राष्ट्रपति पद के उमीदवार 2020

जो बिडेन का प्रारंभिक जीवन:-  
जोसेफ रॉबिनेट बिडेन  का जन्म 20 नवंबर 1942 को पेंसिल्वेनिया में हुआ था। 10 साल की उम्र में वह अपने परिवार के साथ विलमिंगटन, डेलावेयर चले गए। जहाँ उनके पिता ने एक कार सेल्समैन के रूप में काम करते थे। उनके दो बच्चे थे, एक लड़का और लड़की, जिनमे जो बिडेन बड़े थे। जो बिडेन ने शुरुआती शिक्षा  कुलीन हाई स्कूल से प्राप्त की थी। वह स्कूल मे औसत दर्जे के विद्यार्थी थे, लेकिन स्कूल मे वह स्पोर्ट मे बहुत अच्छे थे। 1965 में उन्होंने डेलावेयर विश्वविद्यालय से इतिहास और राजनीति विज्ञान में  स्नातक की डिग्री हासिल की। और तीन साल बाद उन्होंने सिरैक्यूज़ विश्वविद्यालय से लॉ की डिग्री हासिल की। 1966 मे जो बिडेन की स…

Kim jong un biography in hindi | किम जोंग उन की जीवनी

Kim jong un biography in hindi | किम जोंग उन की जीवनी:-

किम जोंग उन शुरुआती जीवन एवं शिक्षा (kim Jong Un Early Life and Education):-

उत्तर कोरिया के ताना साह  किम जोंग-उन के जन्म को लेकर आज तक रहस्य बना हुआ है। क्योंकी उत्तर कोरिया के शासको के घर कोई बच्चा पैदा होता है तो किसी को नहीं बताया जाता जब तक वह खुद गद्दी सम्हालने लायक नहीं हो जाता। किम जोंग उन पहली बार 2011 मे पिता की मृत्यु के बाद सामने आये थे।
 पर उत्तर कोरिया के अधिकारी बताते है की किम जोंग का जन्म 8 जनवरी 1982 हुआ है। लेकिन दक्षिण कोरियाई खुफिया एजंसी का मानना ​​है कि उनका जन्म जो बताया जाता है उसके एक साल बाद 1983 मे हुआ है।  
किम जोंग उन के पिता का नाम  किम जोंग-इल था। वह भी उत्तर कोरिया के शासक रह चुके है। किम जोंग उन की माँ का नाम योंग हुई था। वह एक ओपेरा सिंगर थी। किम जोंग उन तीन भाई-बहन है, किम जोंग उन उनमे दूसरे थे। उनके बड़े भाई का नाम किम जोंग-चुल है। जिनका जन्म 1981 में हुआ था। जबकि उनकी छोटी बहन का नाम किम यो जोंग है, इनका जन्म 1987 में हुआ था।
किम जोंग उन ने अपनी पूरी पढ़ाई  स्विट्जरलैंड स्कूल की। पहले किसी को नहीं…

indira gandhi biography in hindi| इंदिरा गाँधी की जीवनी

Indira gandhi biography in hindi | इंदिरा गाँधी की जीवनी | इंदिरा गाँधी का जीवन परिचय 



जन्म:- 19 नवंबर 1917

जन्मस्थान:- इलाहबाद,उत्तर प्रदेश

पिता:- जवाहरलाल नेहरु

माता:- कमला नेहरु

पति:- फ़िरोज़ गांधी

पुत्र:-राजीव गांधी और संजय गांधी

बहु :-सोनिया गांधी और मेनका गांधी 

पोते :-राहुल गांधी और वरुण गांधी

पोती:- प्रियंका गांधी

इंदिरा गाँधी का प्रारम्भिक जीवन :-

इंदिरा गाँधी भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधानमंत्री है। इनका जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद मे हुआ था। इंदिरा गाँधी के पिता भारत के पहले प्रधानंत्री जवाहर लाल नेहरू है और माता कमला नेहरू थीं। इनके दादा का नाम मोतीलाल नेहरू था, वह एक प्रसिद्ध वकील और स्वतंत्रता सेनानी थे। इंदिरा गाँधी जवाहर लाल नेहरू की इकलौती संतान थीं। 
इंदिरा गाँधी बचपन में माता-पिता के साथ ज्यादा नहीं रह पाती थी, क्योंकि जवाहर लाल नेहरू देश की स्वतंत्रता आंदोलन और राजनीतिक कामों के कारण व्यस्त रहते थे और माता कमला नेहरू का स्वास्थ्य खराब रहता था, जिसके कारण वह भी इंदिरा गाँधी को ज्यादा समय नही दे पाती थी। और 1936 में कमला नेहरू की मृत्यु तपेदिक से हो गई, तब इंदिरा 18 साल क…

rahul tewatia biography in hindi | rahul tewatia story | राहुल तेवतिया बायोग्राफी

Rahul tewatia biography in hindi  | rahul tewatia story | राहुल तेवतिया बायोग्राफी

राहुल तेवतिया को आईपीएल मे खेली एक पारी नें आज स्टार बना दिया। हर जगह उनकी बात हो रही है। इस पारी मे उनके द्वारा मारे गये एक ओवर 5 छक्कों के कारण तो हो ही रही है, लेकिन इस पारी मे उन्होंने शुरू की कुछ बोलों मे स्ट्रगल किया जब लगने लगा उनकी टीम हार जाएगी तब उन्होंने बिलकुल अलग अंदाज से खेल कर अपनी टीम को जिताया इसलिए और भी तारीफ की जा रही है उनकी। 
राहुल तेवतिया जन्म, परिवार एवं शुरुवाती जीवन (Early life, family, education) –
 राहुल तेवतिया का जन्म 1993 मे फरीदाबाद हुआ था, लेकिन इनका शुरुआती जीवन सीही हरियाणा में बिता। राहुल के पिता का नाम कृष्णपाल तेवतिया है, वह एक वकील है। राहुल तेवतिया को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का बहुत शौक था, जैसे भारत के हर आदमी को होता है। लेकिन उन्होंने अपना करीयर भी क्रिकेट को बनाया और आज वह दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग आईपीएल मे खेल रहें है। 


राहुल तेवतिया का क्रिकेट करियर(Rahul Tewatia's cricket career)–
बचपन से ही क्रिकेट के प्रति राहुल की लगन को देखकर राहुल के पिता नें उन…