सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

सितंबर, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

henry ford biography in hindi | henry ford story in hindi | हेनरी फोर्ड बायोग्राफी

henry ford biography in hindi | henry ford story in hindi | हेनरी फोर्ड बायोग्राफी हेनरी फोर्ड एक अमेरिकन उद्योग पति, दुनिया की पहली कार बनाने वाले व्यक्ति, फोर्ड कम्पनी के संस्थापक, मास( mass)  उत्पादन करने वाले पहले उद्योगपति। हेनरी फोर्ड ने पहली कार कंपनी की स्थापना की, उनकी कार ने आम लोगों की जिंदगी आसान कर दि। उन्होंने एक ऐसी ऑटो  मोबइल की स्थापना की जिसमे बड़ी मात्रा मे कार का उत्पादन हो सके, जिससे कार का उत्पादन करना सस्ता हो गया जिससे कार आम व्यक्ति तक पहुँच सकी।   उनके द्वारा स्थापित कंपनी का नाम उन्ही के उप नाम पर रखा गया। जल्द ही इस कम्पनी ने पूरी दुनिया मे अपनी पहचान बना ली। एक साधारण कम्पनी अमेरिका की बहुमूल्य कम्पनी मे बदल गई।  हेनरी फोर्ड अमेरिका के आधुनिक उद्योग क्रांति लाने वालों मे से एक है।  हेनरी फोर्ड  पिता एक किसान थे।  उनके पिता चाहते थे कि  हेनरी फोर्ड भी किसान बने। लेकिन हेनरी फोर्ड ने एक बड़ा सपना देखा और लगातार उस सपने को पूर्ण करने का कार्य करते रहे। और फिर अपना सपना पूरा कर  उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी की स्थापना की।  हेनरी फोर्ड का प्रारम्भिक

Bill gates biography in hindi | bill gates story in hindi

Bill gates biography in hindi | बिल गेट्स जीवनी  बिल गेट्स आज किसी परिचय के मोहताज नहीं है, वह पूरी दुनिया मे अपने कार्यो मे जाने जाते है। हम सभी यह भली भाती जानते है, की दुनिया का सर्वश्रेठ कंपनी की नीव विल गेट्स ने रखी थी।    bill gates family, net worth, education qualification, age and quotes in hindi बिल गेट्स का प्रारम्भिक जीवन, एवं परिवार :- बिल गेट्स का पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स है, इनका जन्म वासिंगटन के सिएटल मे 28 अक्टूबर 1955 मे हुआ था। इनके पिता का नाम विलियम एच गेट्स है वह एक मशहूर वकील थे। इनकी माँ का नाम मैरी मैक्सवेल  गेट्स था, जो प्रथम इंटरस्टेट बैंक मे कार्य रत थी। इनकी दो बहने थी जिनका नाम क्रिस्टी और लिब्बी है। बिल गेट्स स्पोर्ट्स और पढ़ाई मे बहुत अच्छे थे। 1994 मे बिल गेट्स का विवाह मेलिंडा से हुआ था। इनके तीन बच्चे है, जिनके नाम जेनिफर कैथेराइन, रोरी जॉन, फोएबे अदेल गेट्स।  बिल गेट्स की शिक्षा :-  उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा लेकसाइड स्कूल से प्राप्त की, इनके पिता चाहते थे की वह भी वकील बने। परन्तु बिल गेट्स बचपन से ही कम्प्यूटर विज्ञान मे ज्यादा रूचि थी, वह कम्प्यू

Walt disney biography in hindi | walt disney story in hindi

Walt disney biography in hindi | walt disney story in hindi | वॉल्ट डिज्नी जीवनी   वॉल्ट डिज्नी का पूरा जन्म नाम वाल्टर एलियास डिज़्न' था। उनका जन्म 5 सितंबर 1901 मे शिकागो में हुआ था। वॉल्ट डिज्नी पांच भाई बहन थे, उन्हें बचपन से पेंटिंग का शोक था। उन्होंने स्कूल मे पेंटिंग और फोटोग्राफी सीखी, उन्होंने अपनी पहली  पेंटिंग 7 साल की उम्र मे बेची। वह एक समाचार पत्र संपादक भी थे। उन्होंने अकैडमिक ऑफ फाइन आर्ट्स से स्नातक की डिग्री हासिल की। स्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद वह आर्मी मे जाना चाहते थे, लेकिन कम उम्र होने के कारण वह आर्मी मे नहीं जा सके।  उसके बाद वह रेडक्रॉस मे शामिल होगये और एम्बुलेंस चलाने लगे, यहाँ भी उन्होंने अपनी क्रीएटीविटी दिखाई और अपनी एम्बुलेंस मे कई कार्टून बनाए। वह सोचते थे कार्टून देखने से लोगों का मन थोड़ा हल्का हो जाता है। लोगों को उनका यह काम बहुत पसंद आने लगा। उन्हें यही से कार्टून बनाने और लोगों को हँसाने की प्रेरणा मिली। इसके बाद वह विज्ञापनों के लिए कार्टून बनाने लगे।  1920 मे वह कार्टून एनिमेटर बन गये, और एक कंपनी की स्थापना की इस कंपनी को  पहचान तब मि

harland sanders biography in hindi | KFC story in hindi

Harland sanders biography in hindi | KFC  story in hindi | हार्लेन सैंडर्स जीवनी  आज केएफसी (KFC) के बारे मे कौन नहीं जनता, KFC के रेस्टोरेंट पूरी दुनिया मे छाये हुये है। आप सोच सकते है इस KFC की शुरुआत कर्नल सैंडर्श एक ठेले से की थी। इन्हे अपने पाक कला और अपने मासालो पर बहुत भरोसा था वह हर दिन एक बड़े होटल मे जाकर अपनी रेसिपी टेस्ट करवाते थे, उन्हे 1009 बार नकार दिया गया।  पर उन्होंने ने हार नहीं मानी, फिर 1010 वीं होटल ने उनसे हा कहा और फिर क्या था चल पड़ा कर्नल सैंडर्श का कारवा। आज 130 देशों मे 18,000 से ज्यादा KFC रेस्टोरेंट है। हार्लेन सैंडर्श वह सख्श है जिनके बारे मे कहा जाता है जब यह पहली बार बोले होंगे तब इन्होंने माँ नहीं चिकन बोला होगा।  पढ़ाई मे इनका ज्यादा मन लगता नहीं था यह हमेशा बिज़नेस करने के बारे मे सोचते रहते थे, जब वह 16 साल के हुये तो उन्होंने स्कूल को बीच मे छोड़ दिया और नौकरी करने लगे। एक ही साल मे उन्हें कई बार नौकरी से निकाला गया, इनके जीवन मे कई उतार चढाव आये, उसके बाद उन्होंने हाइवे मे एक सर्विस स्टेशन खोला।  हाइवे के पास कोई रेस्टोरेंट नहीं थे, इसलिए लोग उनसे सर्व

Vinoba bhave biography in hindi | विनोबा भावे की जीवनी

Vinoba bhave biography in hindi | विनोबा भावे की जीवनी  विनोबा भावे महात्मा गांधी के अनुयायी, भारत के एक जाने-माने समाज सुधारक एवं 'भूदान आन्दोलन' के संस्थापक थे। इन्होंने अपनी  समस्‍त ज़िंदगी साधु संयासियों जैसी बिताई, इसी कारण ये एक संत के तौर पर प्रसिद्ध हुए। विनोबा भावे अत्‍यंत विद्वान एवं विचारशील व्‍यक्तित्‍व वाले व्यक्ति थे। महात्मा गाँधी के परम शिष्‍य 'जंग ए आज़ादी' के इस योद्धा ने वेद, वेदांत, गीता, रामायण, क़ुरआन, बाइबिल आदि अनेक धार्मिक ग्रंथों का उन्‍होंने गहन  अध्‍ययन किया था। अर्थशास्‍त्र, राजनीति और दर्शन शास्त्र के आधुनिक सिद्धांतों का भी विनोबा भावे ने गहन अध्ययन चिंतन किया था।   विनोबा भावे का जीवन परिचय :- विनोबा भावे का जन्म 11 सितंबर 1895 को गाहोदे गुजरात में हुआ था। विनोबा भावे का पूरा नाम विनायक नरहरि भावे था, वह  कुलीन ब्राह्मण परिवार से थे। वह गाँधी जी से बहुत प्रभावित थे और उनका बहुत सम्मान करते थे उन्होंने 'गांधी आश्रम' में शामिल होने के लिए 1916 में अपनी  स्कूल की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी। गाँधी जी के विचारों से प्रभावित होकर भावे

c v raman biography in hindi | चंद्रशेखर वेंकट रामन की जीवनी

C V Raman biography in hindi | चंद्रशेखर वेंकट रामन की जीवनी  चंद्रशेखर वेंकट रामन आधुनिक युग पहले ऐसे भारतीय थे जिन्होंने वैज्ञानिक संसार में भारत को ख्याति दिलाई थी। प्राचीन भारत में कई वैज्ञानिक हुये थे, जिन्हे विश्व ने क्या भारत तक भुला दिया  था जिन्होंने विज्ञान के लिए कई  उपलब्धियाँ दी थीं जैसे- शून्य और दशमलव, पृथ्वी के अपनी धुरी पर घूमने के बारे में तथा आयुर्वेद के  इत्यादि। मगर पूर्णरूप से विज्ञान की दुनिया मे भारत को पहचान दिलाई वह चंद्रशेखर वेंकट रामन थे। चंद्रशेखर वेंकट रामन ने उस खोये हुई ख्याति को भारत को वापस दिलाया। रामन ने स्वतंत्र भारत में विज्ञान के अध्ययन और शोध को जो प्रोत्साहन दिया उसका अनुमान लगा पाना कठिन है। चंद्रशेखर वेंकट रामन का शुरुआती जीवन :-  चंद्रशेखर वेंकट रामन का जन्म 7 नवम्बर 1888 को तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली शहर में हुआ था। इनके पिता का नाम  चंद्रशेखर अय्यर था, वह एक कॉलेज में शिक्षक थे। वह फिजिक्स  और गणित के विद्वान थे। चंद्रशेखर वेंकट रामन की माँ का नाम पार्वती अम्माल था। 6 मई 1907 को कृष्णस्वामी अय्यर की पुत्री 'त्रिलोकसुंदरी' से रामन का

sucheta kriplani biography in hindi | सुचेता कृपलानी की जीवनी | bharat ki pahli mahila mukhymantri sucheta kriplani

sucheta kriplani biography in hindi | सुचेता कृपलानी की जीवनी | bharat ki pahli mahila mukhymantri sucheta kriplani सुचेता कृपलानी भारतीय स्वतंत्रता सेनानी एवं राजनीतिग्य थीं। सुचेता कृपलानी ने एक शिछक के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की और वह जिस राज्य मे शिछक थी कृपलानी उसी राज्य की मुख्य मंत्री बानी, वह राज्य है उत्तर प्रदेश है और वह उत्तर प्रदेश के साथ साथ देश की भी पहली मुख्यमंत्री थी। प्रारंभिक जीवन: सुचेता कृपलानी का जन्म 25 जून 1908 को एक बंगाली परिवार मे हुआ था। भारत के हरियाणा राज्य के अम्बाला शहर में हुआ था और शुरुआती शिक्षा लाहौर में हुई और कृपलानी ने दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज और सेंट स्टीफन कॉलेज से उच्च शिक्षा ग्रहण की। इसके बाद सुचेता बनारस हिंदु विश्वविद्यालय में लेक्चरार का पद सम्हाला। सुचेता कृपलानी का विवाह आचार्य जे. बी. कृपलानी से हुआ। राजनैतिक जीवन: स्वतंत्रता आन्दोलन में भाग लेने के कारण सुचेता कई बार जेल भी गयीं। 1946 में वह संविधान सभा की सदस्य बानी । 1958 से लेकर 1960 तक वह कांग्रेस की महासचिव भी रही थी। 1963 से 1967 तक वह उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री थी और वह

Sweta Singh Biography in hindi | श्वेता सिंह का जीवन परिचय

 Sweta Singh Biography in hindi | श्वेता सिंह का जीवन परिचय   श्वेता सिंह का प्रारम्भिक जीवन (Early life of Shweta Singh):- श्वेता सिंह का जन्म बिहार की राजधानी पटना मे  21 अगस्त 1977 को हुआ था। वह मध्यम वर्गीय परिवार से आती है, उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा पटना के उच्चतर माध्यमिक स्कूल से प्राप्त की। उच्च शिक्षा के लिये उन्होंने पटना विश्वविद्यालय में दाखिला लिया। श्‍वेता सिंह फिल्मो में काम करना चाहती थी, पर वह जानती थी की फिल्म इंडस्ट्री मे जाना इतना भी आसान नहीं है, इसलिए  उन्होंने अपनी पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान देना शुरू किया और पटना विश्वविद्यालय से मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएशन किया। श्‍वेता बचपन से अच्छी लेखक थी, उन्हें लिखने का बहुत शोक था  इसलिए वे लोकल समाचार पत्र  के लिए लेख लिखा करती थी।  श्वेता सिंह फैमिली (Sweta Singh Family):- श्वेता सिंह की शादी संकेत कोटकर नाम के व्यक्ति से हुई है। संकेत कोटकर एनलाइट सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में एक सीनियर टेक्नोलॉजी मेनेजर है। श्वेता सिंह और उनके पति की पहली मुलाक़ात एक पार्टी मे हुई थी,  इसके बाद श्वेता और संकेत के बिच अच्छी दोस्ती

Anjana om kashyap biography in hindi | अंजना ओम कश्यप का जीवन परिचय

Anjana om kashyap biography in hindi | अंजना ओम कश्यप का जीवन परिचय अंजना ओम कश्यप भारतीय पत्रकार और न्यूज़ एंकर हैं। वह भारत के हिन्दी के सबसे प्रसिद्ध न्यूज़ चैनल आज तक मे कार्यरत है। आज तक के शो “हल्ला बोल” मे सामाजिक मुद्दों को उठाने और अपने आक्रामक पत्रकारिता के लिए प्रसिद्ध है।    पूरा नाम :- अंजना ओम कश्यप पेशा :- न्यूज़  एंकर ( आज तक ) अंजना ओम कश्यप का प्रारम्भिक जीवन (Early life of Anjana Om Kashyap):- अंजना ओम कश्यप का जन्म झारखण्ड राज्य की राजधानी रांची मे 12 जून 1975 मे हुआ था। उनके परिवार का सम्बन्ध  बिहार राज्य के आरा शहर से हैं। उनके पिता का नाम ओम प्रकाश तिवारी है, वह भारत के पूर्व रक्षा अधिकारी है। अंजना ने अपनी शुरुआती शिक्षा रांची मे स्थित लॉरेंट कॉन्वेंट स्कूल से प्राप्त की थी। अंजना के पिता उन्हें डॉक्टर बनना चाहते थे, इसलिए उन्होंने स्कूल खत्म करने के बाद प्री-मेडिकल एडमिशन टेस्ट दिए, पर वह टेस्ट पास नहीं कर पाई।   उसके बाद अंजना ने दिल्ली मे स्थित दौलत राम कॉलेज में दाखिला लिया और  सोशल वर्क्स से सामाजिक कार्यो में मास्टर डिग्री हासिल की। अंजना ओम कश्यप सिविल सर्वि

Arnab Goswami Biography in hindi | अर्णब गोस्वामी का जीवन परिचय

Arnab Goswami Biography in hindi | अर्णब गोस्वामी का जीवन परिचय शिक्षा, आयु, विवाद, सैलरी, जाति, परिवार, केस अर्नब गोस्वामी ( Education, age, dispute, salary, caste, family, case Arnab Goswami) अगर आप टीवी पर न्यूज़ देखते है तो आप अर्णब गोस्वामी जानते ही होंगे। आप अर्णव गोस्वामी को इंग्लिश न्यूज़ चैनल रिपब्लिक टीवी, और हिंदी न्यूज़ चैनल रिपब्लिक भारत पर देखा होगा। वह रिपब्लिक न्यूज़ नेटवर्क के प्रधान संपादक और मालिक है।  वह भारत के उन गिने चुने पत्रकार मे से एक है जो संपादक होने के साथ न्यूज़ चैनल के मालिक भी है। अर्णव गोस्वामी अपने बेबाक इंटरव्यू के लिए जाने जाते है, और  पत्रकारिता के छेत्र के सबसे प्रसिद्ध पत्रकार है। बड़े-बड़े राजनेता से लेकर अभिनेता और अभिनेत्री तक सभी इनके शो मे इंटरव्यू देना पसंद करते है। क्योंकी उनका न्यूज़ चैनल भारत बस मे ही नहीं कई और देशों मे भी देखा जाता है। जब उन्होंने हिंदी न्यूज़ चैनल की शुरुआत की थी तब उन्होंने बोला था हमने हिंदी छेत्र मे आने मे बहुत समय लगा दिया, भारत मे हिंदी न्यूज़ चैनल का बहुत प्रभाव है और आम जनता तक पहुंच बड़े आसानी से हो जाता है। कुछ ही समय म

Vivek Bindra Biography in Hindi | डॉ विवेक बिंद्रा की जीवनी

Vivek Bindra Biography in Hindi | डॉ विवेक बिंद्रा की जीवनी Biography, caste, family, wife, history, education, Wikipedia of Dr. Vivek Bindra !! डॉ विवेक बिंद्रा  कौन हैं(Who is dr vivek bindra):- डॉ विवेक बिंद्रा को आज भारत कौन नहीं जानता है, भारत में आज जो भी व्यक्ति इंटरनेट का इस्तेमाल करता है वह डॉ विन्द्रा को जनता है, इनकी फैन फॉलोइंग काफी ज्यादा है। डॉ विवेक बिंद्रा  मोटिवेशनल  स्पीकर, रेवोलुशनरी इंटरप्रेन्योर और एक सीईओ हैं| यह ऐसे बोलते है की किसी भी व्यक्ति के अंदर उसके काम के प्रति उत्साह भर देते हैं| डॉ विवेक बिंद्रा एक ऐसे इंसान है जो किसी भी हतास और निराश व्यक्ति को दोबारा से उसके पैरों पे खड़े होने की क्षमता से वाकिफ कराते है| अगर आप ने उनका वीडियो आज तक नहीं देखा है तो एक बार जरूर देखें उनकी छमताओं का पता चल जाएगा।  इनकी वर्कशॉप भारत के कई छोटे-बड़े शहरो हैं, जहां लाखो लोग आते है। अपनी वर्कशॉप में  मोटिवेशनल स्पीच देते ही है, साथ ही बिजनेस को कैसे आगे बढ़ाना, कैसे आत्म निर्भर बने सिखाते है। आम आदमी ही नहीं बड़े-बड़े कंपनी के सीइओ इनसे सलाह लेते है।    डॉ विवेक बिंद्रा को लोगो

Rajkumari amrit kaur biography in hindi | राजकुमारी अमृत कौर की जीवनी | भारत की पहली महिला केंद्रीय मंत्री

Rajkumari amrit kaur biography in hindi |  राजकुमारी अमृत कौर की जीवनी | भारत की पहली महिला केंद्रीय मंत्री  नाम :- राजकुमारी अमृत कौर आहलुवालिया  जन्म :- 2 फरवरी 1889, लखनऊ पिता :-  हरनाम सिंह माता :-  नरिंदर कौर सिंह ( प्रिस्सिल्ला ) पति :- राजा भगवान सिंह  पार्टी :- इंडियन नेशनल कांग्रेस  पद :-  स्वास्थ मंत्री, प्रथम भारतीय महिला केंद्रीय मंत्री स्वर्गवास :- 2 अक्टूबर 1964 स्वतंत्रता सेनानी, प्रथम भारतीय महिला केंद्रीय मंत्री , अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना में महत्वपूर्ण योगदान,  उनका सम्बन्ध कपूरथला, पंजाब, के राजघराने से था। देश के दो भागो मे बटने से पहले राजकुमारी अमृतकौर अंतरिम सरकार में केन्द्रीय मंत्री थीं। वे महान समाज सुधारक थीं। देश की आजादी उनका सराहनीय योगदाना है। राजकुमारी अमृता कौर शुरआती जीवन :- राजकुमारी अमृतकौर का जन्म 2 फरवरी 1889 लखनऊ में हुआ था। राजकुमारी अमृतकौर कपूरथला के साही परिवार से सम्बन्ध रखती थीं। लेकिन उन्होंने देश की सेवा के लिए साही जीवन छोड़ दिया था। उनके पिता का नाम राजा हरनाम सिंह थे और माता का नाम रानी नरिंदर कौर सिंह थीं। अमृत कौर उ