सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Bill gates biography in hindi | bill gates story in hindi

Bill gates biography in hindi | बिल गेट्स जीवनी 





बिल गेट्स आज किसी परिचय के मोहताज नहीं है, वह पूरी दुनिया मे अपने कार्यो मे जाने जाते है।
हम सभी यह भली भाती जानते है, की दुनिया का सर्वश्रेठ कंपनी की नीव विल गेट्स ने रखी थी। 
 
bill gates family, net worth, education qualification, age and quotes in hindi

बिल गेट्स का प्रारम्भिक जीवन, एवं परिवार :-


बिल गेट्स का पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स है, इनका जन्म वासिंगटन के सिएटल मे 28 अक्टूबर 1955 मे हुआ था। इनके पिता का नाम विलियम एच गेट्स है वह एक मशहूर वकील थे। इनकी माँ का नाम मैरी मैक्सवेल  गेट्स था, जो प्रथम इंटरस्टेट बैंक मे कार्य रत थी। इनकी दो बहने थी जिनका नाम क्रिस्टी और लिब्बी है। बिल गेट्स स्पोर्ट्स और पढ़ाई मे बहुत अच्छे थे। 1994 मे बिल गेट्स का विवाह मेलिंडा से हुआ था। इनके तीन बच्चे है, जिनके नाम जेनिफर कैथेराइन, रोरी जॉन, फोएबे अदेल गेट्स। 


बिल गेट्स की शिक्षा :- 


उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा लेकसाइड स्कूल से प्राप्त की, इनके पिता चाहते थे की वह भी वकील बने। परन्तु बिल गेट्स बचपन से ही कम्प्यूटर विज्ञान मे ज्यादा रूचि थी, वह कम्प्यूटर इंजीनियर बनना चाहते थे।

 1973 मे उन्होंने अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी की, उसके बाद उन्होंने विश्व प्रसिद्ध हावर्ड कॉलेज मे एडमिशन लिया। लेकिन उस समय वह समझ नहीं पा रहें थे  की आगे क्या करना है, वह पढ़ने मे बहुत अच्छे थे लेकिन उनका पढ़ने मे मन नहीं लगता था। इसलिए दो साल बाद ही उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई बीच मे ही छोड़ दी।

कम्प्यूटर प्रोग्रामइंग के प्रति बिल गेट्स की रूचि :- 


जब बिल गेट्स आठवीं कक्षा मे थे, तब उनके स्कूल ने बच्चों को सिखाने के लिए जनरल इलेक्ट्रिक का एक कम्प्यूटर प्रोग्राम खरीदा था। बिल गेट्स इस प्रोग्राम मे बहुत रूचि थी वह एक्स्ट्रा टाइम मे यह प्रोग्राम कैसे काम करता है वह सीखते रहते थे।

जब उन्होंने अच्छे से प्रोग्राम को सिख लिया, तब उन्होंने मात्र तेरह वर्ष की उम्र मे अपना पहला कंप्यूटर प्रोग्राम बनाया था जिसका नाम इन्होंने टिक-टक-टोए रखा। इस कंप्यूटर प्रोग्राम का उपयोग गेम खेलने के लिए किया जाता था। 

इसके पश्चात बिल गेट्स की कम्प्यूटर के प्रति रूचि और बढ़ती रही, और वह दिन रात सिखने का प्रयत्न करते रहते थे, वह डीइसी, पीडीपी  और मिनी कंप्यूटर मे दिलचस्पी दिखाते रहें। वह कभी सीखते सीखते कम्प्यूटर मे कुछ गड़बड़ कर देते तो कभी इन प्रोग्रामों मे कोई खामी निकाल देते थे। इसलिए उन्हें कम्प्यूटर सेंटर कारपोरेशन द्वारा ऑपरेटिंग सिस्टम मे हो रही खामियों के लिए एक महीने के लिए प्रतिबंध कर दिया। 

इस प्रतिबंध के समय मे उन्होंने अपने मित्रों के साथ मिल कर सीसीसी के सॉफ्टवेयर मे आ रही खामियों को दूर कर दिया, जिससे बिल गेट्स लोग बहुत प्रभावित हुए। उसके बाद वह सीसीसी कार्यलय मे जाकर विभिन्न प्रोग्रामों का अध्यन करते रहे। यह सिलसिला 1970 तक चलता रहा  और फिर उन्होंने 1973 मे अपना स्कूल पास किया और हॉवर्ड  कॉलेज मे एडमिशन लिया लेकिन उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई दो साल बाद 1975 मे छोड़ दिया। 

कॉलेज से निकलने के बाद उन्होंने इंटेल 8080 चिप बनाया, यह पर्सनल कंप्यूटर के लिए सबसे उपयोगी चिप साबित हुआ। अमेरिका मे उनकी काफी तारीफ होने लगी लोगों को उनके द्वारा बनाया गयी चिप मे हर बड़ा बिजनेस मैन पैसे लगाना चाहता था। लेकिन बिल गेट्स ने अपनी कंपनी की स्थापना करने की सोची। 

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी की स्थापना :- 


बिल गेट्स और उनके साथी  एलन ने 4 अप्रैल 1975 मिल कर  मे एक कम्पनी की शुरुआत की जिसका नाम उन्होंने माइक्रो-सॉफ्ट रखा। 1980 में माइक्रोसॉफ्ट ने सॉफ्टवेयर बिजनेस में कदम रखा और झेनिक्स नाम का अपना पहला सॉफ्टवेयर का निर्माण किया।


लेकिन इस कम्पनी को असली पहचान तब मिली जब इस कम्पनी ने एमएस डॉस नाम का सॉफ्टवेयर बनाया। 1979 में बिल गेट्स और उनके दोस्त ने कंपनी को वाशिंगटन मे शिफ्ट कर दिया। और देखते ही देखते मल्टीनेशनल कंपनी में बदल गई। 1980 में आईबीएम कम्पनी ने माइक्रो-सॉफ्ट को अपने कम्प्यूटर्स के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने का कॉन्ट्रेक्ट दिया। 

 जिसके बाद माइक्रो-सॉफ्ट ने एमएस-डॉस नामक सॉफ्टवेयर बनाया। इसके बाद माइक्रो-सॉफ्ट कंपनी तेजी से आगे बढ़ी। 1985 में माइक्रोसॉफ्ट ने बहु चर्चित विंडोज नाम का पहला ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया। विंडोज को मिली अपार सफलता ने कुछ ही वर्षों मे बिल गेट्स को अरबपति बना दिया । मात्र 31 वर्ष की उम्र मे बिल गेट्स युवा अरबपति बन चुके थे।        

90 के दशक में जब दुनिया में पर्सनल कम्प्यूटर्स की मांग तेजी से बढ़ी तब माइक्रो-सॉफ्ट ने विंडोज 95 ऑपरेटिंग सिस्टम दुनिया के सामने पेश किया, जो सालों तक कम्प्यूटर की दुनिया में राज करता रहा। इस ऑपरेटिंग सिस्टम की 70 लाख कॉपिज इसके लॉन्च होने के पहले हफ्ते में ही बिक गई थीं। और आज दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी मे से एक है। 

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन का उदय :- 


वर्ष 2000 मे बिल गेट्स और उनकी पत्नी ने मिल कर बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की स्थापना की। जो दुनिया का सबसे बड़ा चैरिटेबल ट्रस्ट है, जो दुनिया भर मे गरीबों की मदद करते है। उनका फाउंडेशन ऐसे लोगों की मदद करता जिनकी कोई मदद नहीं करता ना ही उनकी सरकार करती। कई गरीब लड़कों को आगे पढ़ने के लिये छात्रवृति देते है। अफ्रीका से एड्स जैसी बीमारियों से निपटने के लिये सरकारों को पैसे देते है। 

• साल 2000 मे इस फाउंडेशन ने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी को 210 मिलियन डॉलर छात्रवृति दान की। 

• फाउंडेशन बनने से पहले वर्ष 2000 तक बिल गेट्स ने 29 बिलयन डॉलर का दान दे चुके थे। 

माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी से इस्तीफा देदिया :- 


जब वह अपने फाउंडेशन से लोगों की मदद करते थे, तो लोगों को उनसे बहुत उम्मीद होनी लगी। जिससे उन्हें भी लगा की उन्हें अब लोगों की ज्यादा मदद करना चाहिए। इसलिए उन्होंने वर्ष 2006 मे घोसणा की वह अब अपनी कम्पनी के लिए अंशकालिक रूप से कार्य करेंगे। 


 जब तक कोई जिम्मेदार सीईओ नहीं मिल जाता है और अब बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के लिए पूर्णकालिक  काम करेंगे। वर्ष 2008 मे उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के सीइओ पद से इस्तीफा दे दिया, परन्तु अध्यक्ष और सलाहकार के रूप मे वह कम्पनी मे विधमान है। आज इस कम्पनी के सीईओ भारत के सत्या नडेला है। 

बिल गेट्स की संपत्ति :- 


बिल गेट्स की संपत्ति का अंदाजा इस बात से आप लगा सकते है, की अगर बिल गेट्स पूरी दुनिया के हर व्यक्ति को 700 रुपये बांटे  तब भी उनके पास लाखों करोड़ रुपये बाकी रह जायेंगे। 

बिल गेट्स कई वर्षों तक दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति रहें है, और आज के समय मे वो दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति है। बिल गेट्स की वर्तमान संपत्ति लगभग 112 बिलियन डॉलर है, यानी करीब 7.84 लाख करोड़ रुपये है।

बिल गेट्स 31 साल की उम्र में  सबसे कम उम्र के अरबपति बन गये थे। उनका यह रिकॉर्ड 2008 तक रहा फिर 2008 में 23 वर्ष की आयु में मार्क जुकरबर्ग ने यह रिकॉर्ड तोड़ दिया और सबसे युवा अरबपति बन गये। वह दुनिया के सबसे महगे घर मे रहते है जिसकी कीमत 1250 लाख डॉलर है, यह घर बहुत ही हाईटेक है।

 इनके पास कई लग्जरी कार, यॉट, जेट, हेलीकाप्टर आदि है। बिल गेट्स अपने घर और कारों मे पैसे खर्च करते है लेकिन उनका मुख्य उद्देश्य जरूरतमंदों, गरीबों, बीमारों की मदद करने के लिए दान करना रहता है।

((यहाँ पर हमनें आपको बिल गेट्स  के जीवन के बारे में और माइक्रोसॉफ्ट कंपनी की सफलता के बारे मे बताया है, यदि आपको उनके बारे मे और कोई जानकारी चाहिए या आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है)) 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

rahul sharma(micromax) biography in hindi | राहुल शर्मा जीवन परिचय| micromax story in hindi

Kamala Harris biography in hindi | कमला हैरिस की जीवनी | कमला हैरिस का जीवन परिचय

Dilip Shanghvi biography in hindi | दिलीप संघवी की जीवनी | Dilip Shanghvi success story in hindi

jr ntr biography in hindi | जूनियर एनटीआर जीवनी

harshad mehta biography in hindi | हर्षद मेहता का जीवन परिचय | harshad mehta scam 1992