सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

harland sanders biography in hindi | KFC story in hindi

Harland sanders biography in hindi | KFC  story in hindi | हार्लेन सैंडर्स जीवनी 




आज केएफसी (KFC) के बारे मे कौन नहीं जनता, KFC के रेस्टोरेंट पूरी दुनिया मे छाये हुये है।
आप सोच सकते है इस KFC की शुरुआत कर्नल सैंडर्श एक ठेले से की थी। इन्हे अपने पाक कला और अपने मासालो पर बहुत भरोसा था वह हर दिन एक बड़े होटल मे जाकर अपनी रेसिपी टेस्ट करवाते थे, उन्हे 1009 बार नकार दिया गया।

 पर उन्होंने ने हार नहीं मानी, फिर 1010 वीं होटल ने उनसे हा कहा और फिर क्या था चल पड़ा कर्नल सैंडर्श का कारवा। आज 130 देशों मे 18,000 से ज्यादा KFC रेस्टोरेंट है। हार्लेन सैंडर्श वह सख्श है जिनके बारे मे कहा जाता है जब यह पहली बार बोले होंगे तब इन्होंने माँ नहीं चिकन बोला होगा। 

पढ़ाई मे इनका ज्यादा मन लगता नहीं था यह हमेशा बिज़नेस करने के बारे मे सोचते रहते थे, जब वह 16 साल के हुये तो उन्होंने स्कूल को बीच मे छोड़ दिया और नौकरी करने लगे। एक ही साल मे उन्हें कई बार नौकरी से निकाला गया, इनके जीवन मे कई उतार चढाव आये, उसके बाद उन्होंने हाइवे मे एक सर्विस स्टेशन खोला। 

हाइवे के पास कोई रेस्टोरेंट नहीं थे, इसलिए लोग उनसे सर्विस स्टेशन मे खाने की कोई सुविधा करने का आग्रह किया। उन्होंने अपने सर्विस स्टेशन मे लोगों के लिए खाना बनाना शुरू किया, लोगों को उनके खाना बहुत पसंद आने लगा, उनका सर्विस स्टेशन अब रेस्टोरेंट मे बदल गया। 

उन्होंने अपने सर्विस स्टेशन को   बड़े रेस्टोरेंट मे बदल दिया। उन्होंने 142 लोगों के बैठने के लिए रेस्टोरेंट बनाया। 9 सालों तक उन्होंने इस रेस्टोरेंट मे चिकन पर प्रयोग करते रहे और अपने ग्राहकों को इसका टेस्ट कराते रहे। एक दिन उन्होंने ऐसा फ़्राईड चिकन बनाया जो उनके ग्राहकों को बहुत पसंद आया। उन्होंने चिकन के लिए ऐसा मिश्रण बनाया था जो आज भी राज है, इस मिश्रण को आज भी KFC कंपनी द्वारा बना कर अपने फ्रेंचाइजी को देते है। 

जब वह 62 साल के थे तो अचानक उनका रेस्टोरेंट बंद होगया था। वह बेरोजगार होगये लेकिन उन्होंने इस उम्र मे भी हार नहीं मानी। 62 साल की उम्र मे हाँथ मे हाँथ धरे बैठेने के बजाय अपने हुनर और अपनी रैसिपी पर भरोसा जताया। और निकल पड़े अपने इस हुनर के किसी अमीर  कदरदान को ढूढ़ने, जो उनके इस हुनर पर पैसा लगा सके। 

उन्होंने इसके लिए अपनी पुरानी कार मे एक कुकर और अपने मसाले रख कर बड़े बड़े होटल के चक्कर लगाने लगे, इसके लिए उन्होंने हजारों रेस्टोरेंटों के चक्कर लगाये लेकिन कोई भी उनकी रैस्पि पर भरोसा नहीं जाता रहा था। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी, अपने काम मे वह लगे रहे। जब वह 1010 वें रेस्टोरेंट मे गये तो उन्हे पहली बार हा मिली होटल के मालिक को उनकी रैस्पि बहुत पसंद आई होटल मालिक पैसे देनें को तयार होगये। 



उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा फिर 12 साल घूम घूम कर उन्होंने अमेरिका और कनाडा मे अपनी 600 फ्रेंचाइजी बांटी। यह भी एक मिसाल थी की खुद एक भी रेस्टोरेंट ना होने बाबजूद उन्होंने कई फ्रेंचाइजी बांटी। 

1964 मे सैंडर्स ने अपनी कंपनी को 20,000 $ मे बेच दिया। आज हर दिन लगभग डेढ़ करोड़ लोग उनकी रैस्पि का आनंद लेते है। दुनिया मे आज कोई फ्राइड चिकन का बड़ा ब्रांड है वह KFC है।  हाइवे से शुरू हुआ KFC आज 20 अरब $ का ब्रांड बन चूका है। आज KFC पेपिसीको ब्रांड के अंदर आता है। भारत मे भी KFC के 345 आउटलेट है।  

  

KFC नाम कैसे पड़ा :- 


KFC का नाम 1991 तक केंटकी फ्राइड चिकन था, लेकिन 1991 मे तली हुई चीजों के खिलाफ चले अभियान के कारण इसका नाम KFC पड़ा। इस नये नाम ने कंपनी को और फायदा पहुँचाया क्योंकि इस नाम से कंपनी आज कई चीजे बेचती है, जिसका सबसे बड़ा उदाहरण भारत के ही KFC आउटलेट है जिसमे शाकाहारी भोजन भी मिलता है, अगर कंपनी का नाम केंटकी फ्राइड चिकन होता तो वह चिकन के ही उत्पाद बेच सकती थी। 



2006 कंपनी नये लोगो के साथ सामने आई, इस लोगो मे कर्नल को सफेद कपड़ो मे स्माइल करते हुये दिखाया गया है। आज भी यह लोगो KFC की पहचान है, भले ही कर्नल ने कंपनी बेच दी थी लेकिन उनके तैयार किये गये स्वाद और उनके नाम को कोई भूल नहीं पाया। आज भी कंपनी उनके नाम और उनके चेहरे का प्रयोग करती है।  

कैसे मिली कर्नल सैंडर्स को कर्नल की उपाधि :- 


कर्नल सैंडर्स का नाम हार्लेन सैंडर्स था, उनका सम्बन्ध फौज से नहीं था लेकिन फिर भी उन्हे कर्नल क्यों कहा जाता होगा आप भी यह सोच रहें होंगे। हार्लेन सैंडर्स ने एक बार अपना बनाया हुआ चिकन केंटकी के गवर्नर को खिलाया उन्हें यह चिकन इतना पसंद आया की उन्होंने हार्लेन सैंडर्स को कर्नल की उपाधी दी। 

कहाँ रखा है KFC का विश्व प्रसिद्ध फार्मूला :- 


हार्लेन सैंडर्स ने जिस मसाले को बनाया था, आज भी वह एक तिजोरी मे है। बहुत कम लोग ही जानते है  उसमे कितने मसाले है और कितनी मात्रा मे मिलाये जाते है। यह फार्मूला आज लुइवल की तिजोरी मे बंद है। 

((यहाँ पर हमनें आपको कर्नल सैंडर्स के जीवन के बारे में और KFC कंपनी की सफलता के बारे मे बताया है, यदि आपको उनके बारे मे और कोई जानकारी चाहिए या आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है)) 
   

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

rahul sharma(micromax) biography in hindi | राहुल शर्मा जीवन परिचय| micromax story in hindi

Kamala Harris biography in hindi | कमला हैरिस की जीवनी | कमला हैरिस का जीवन परिचय

Dilip Shanghvi biography in hindi | दिलीप संघवी की जीवनी | Dilip Shanghvi success story in hindi

jr ntr biography in hindi | जूनियर एनटीआर जीवनी

harshad mehta biography in hindi | हर्षद मेहता का जीवन परिचय | harshad mehta scam 1992