सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

harshad mehta biography in hindi | हर्षद मेहता का जीवन परिचय | harshad mehta scam 1992



harshad mehta biography in hindi | harshad mehta scam 1992 | harshad mehta story in hindi





हर्षद मेहता का पूरा नाम हर्षद शांतिलाल मेहता है, इनका जन्म 29 जुलाई 1954 को राजकोट जिले के पनेली मोती नामक गांव में एक गुजराती जैन परिवार में हुआ था। हर्षद मेहता ने 1976 में लाजपतराय कॉलेज मुंबई से बी.कॉम की पढ़ाई पूरी की।

उसके बाद अगले आठ वर्षों तक कई तरह के काम करते रहे। इसी दौरान ही वह शेयर बाजार में दिलचस्पी लेने लगे और एक ब्रोकरेज फर्म में शामिल हो गए। इसी शेयर बाजार ने उन्हें बुलंदियों मे पंहुचा दिया।


हर्षद मेहता का करियर :-


1984 में वह सभी काम छोड़कर जो उन्हें पसंद था उसी काम मे लग गये। वह एक ब्रोकर के रूप में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सदस्य बन गये और बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) मे एक अन्य दोस्त के साथ मिलकर GrowMore Research and Asset Management नामक फर्म की स्थापना की।

उन्होंने 1984 ब्रोकर के रूप मे काम करना शुरू किया था लेकिन अभी तक उन्हे वह सफलता नहीं मिल रही थी जो उन्हें 1986 में मिली। 1986 मे कई बड़ी कंपनी ने उनके फर्म में निवेश किया, और उनकी सेवाओं का उपयोग करने लगे। 1990 आते-आते बीएसई उनका नाम बन गया।

इस अवधि के दौरान मीडिया मे उनकी काफी चर्चा होने लगी थी, उन्हें बीएसई का "द बिग बुल" कहा जाने लगा। यहाँ तक उन्होंने बहुत नाम बनाया और पैसे कमाए लेकिन 1991 मे उनकी तरक्की की रफ़्तार को रोका जब उनका बैंक घोटालों में आने लगा।



हर्षद मेहता द्वारा किये गये घोटाले :-


90 के दशक की शुरुआत तक भारत के बैंकों को इक्विटी बाजारों में निवेश करने की अनुमति नहीं थी। तब हर्षद मेहता ने बैंकों की इस समस्या से निपटते हुए बड़ी चतुराई से धन को बैंकों से निकाला और इस धन को शेयर बाजार में डाल दिया।

उन्होंने बैंकों से उच्च दरों पर ब्याज वापस देनें का वादा किया, उनके इस वादे से प्रभावित होकर अन्य बैंकों ने भी उन्हें धन देना शुरू कर दिया। और वह बॉन्ड खरीदने की आड़ में सारा धन अपने व्यक्तिगत खाते में हस्तांतरित करने लगे। उस समय एक बैंक को अन्य बैंकों से शेयर खरीदने और आगे के बॉन्ड को खरीदने के लिए एक दलाल के माध्यम से जाना पड़ता था। इसी का फयदा उन्होंने उठाया और बहुत बड़ा घोटाला किया।


एक और बड़ा घोटाला हर्षद मेहता ने किया इस घोटाले मे हर्षद मेहता ने जिस साधन का बड़े तरीके से इस्तेमाल किया वह बैंक रसीद (बीआर) थी।

रसीद सिस्टम का इस तरह से इस्तेमाल किया जाता था की पहले से तैयार किसी सौदे में किसी भी प्रकार के बदलाव किये बगैर उसे रसीद के माध्यम आगे बढ़ा दिया जाय। इसी तरह रसीद का इस्तेमाल एक बॉन्ड की तरह किया जाता था। रशीद शेयर की बिक्री और खरीद की पुष्टि करता था। यह शेयर के खरीदार को शेयर देने का वादा करता है। इसका इस्तेमाल एक विक्रेता और खरीदार के बीच भरोसे की तरह किया जाता है।

यह रसीद बैंक द्वारा प्राप्त धन की रसीद की तरह कार्य करता है, इसलिए इसे बैंक रसीद के नाम से भी जाना जाता है। रसीद के बारे मे सब पता लगाने के बाद हर्षद मेहता को ऐसे बैंकों की आवश्यकता थी जो नकली रसीद (बीआर)जारी कर सकते थे।


कैसे उजागर हुआ रसीद घोटाला :-


23 अप्रैल 1992 को पत्रकार सुचेता दलाल ने टाइम्स ऑफ इंडिया के एक कॉलम में हर्षद मेहता के अवैध तरीकों का खुलासा किया। सुचेता दलाल ने मेहता के घोटाले का खुलासा किया।



उन्होंने बताया की एक रेडी फॉरवर्ड डील में दो बैंक शामिल होते हैं जो एक कमीशन के एवज में ब्रोकर द्वारा साथ लाए जाते हैं। ब्रोकर न तो नकदी और न ही शेयर को संभालता है।


जब इस घोटाले का उजागर हुआ तब बैंकों ने अपने पैसे वापस मांगने शुरू कर दिए यही से हर्षद मेहता का उत्थान का पतन हुआ।  उन पर 72 आपराधिक अपराधों के आरोप लगाए गए और उनके खिलाफ 600 से अधिक सिविल एक्शन सूट दायर किए गए। 

मार्केट वॉचडॉग, सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया ने शेयर बाजार से संबंधित गतिविधियों के लिए उन्हें जीवन भर के लिए प्रतिबंधित कर दिया था। 

यह घोटाला इतना बड़ा था की इसकी जाँच के लिए सीबीआई को आना पड़ा। फिर  सीबीआई ने हर्षद मेहता और उनके भाइयों को 9 नवंबर 1992 को लगभग 90 कंपनियों के 2.8 मिलियन से अधिक शेयरों के दुरुपयोग के लिए गिरफ्तार किया। 

harshad mehta biography in hindi


 हर्षद मेहता की मृत्यु:-


हर्षद मेहता को ठाणे जेल में आपराधिक मामले मे हिरासत में रखा गया। यही हर्षद मेहता ने देर रात सीने में दर्द की शिकायत की और जिसके बाद उन्हें ठाणे के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन उनका स्वास्थ और ख़राब होता गया और 31 दिसंबर 2001 को 47 वर्ष की उम्र में उनकी मृत्यु होगई।

हर्षद मेहता संछिप्त जीवन परिचय(harshad mehta biography in hindi) :-


• हर्षद मेहता का पूरा नाम -हर्षद शांतिलाल मेहता

• हर्षद मेहता की जन्म तिथि - 29 जुलाई 1954

• हर्षद मेहता का जन्म स्थान - राजकोट, गुजरात 

• हर्षद मेहता का धर्म - हिन्दू 

•हर्षद मेहता की राशि - कन्या 

• हर्षद मेहता की राष्ट्रीयता - भारत

• हर्षद मेहता का निवास स्थान - मुंबई, महाराष्ट्र 

• हर्षद मेहता के पिता का नाम - शांतिलाल मेहता

• हर्षद मेहता की माँ का नाम - रशीला बेन मेहता 

• हर्षद मेहता के भाई - अश्विन मेहता, सुधीर मेहता, हितेश मेहता

• हर्षद मेहता की पत्नी का नाम - ज्योति मेहता 

• हर्षद मेहता के बेटे का नाम - अतुर मेहता 

• हर्षद मेहता की स्कूल - होली क्रॉस बयारन हायर सेकंडरी स्कूल 

• हर्षद मेहता का कॉलेज - लाजपत राय कॉलेज, मुंबई 

• हर्षद मेहता की शिक्षा योग्यता - बी. कॉम 

• हर्षद मेहता का पेशा - स्टॉक ब्रोकर 

• हर्षद मेहता की मृत्यु तिथि - 31 दिसंबर 2001

•हर्षद मेहता का नेट वर्थ - 250 करोड़ साल 2000 मे


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

rahul sharma(micromax) biography in hindi | राहुल शर्मा जीवन परिचय| micromax story in hindi

Kamala Harris biography in hindi | कमला हैरिस की जीवनी | कमला हैरिस का जीवन परिचय

Dilip Shanghvi biography in hindi | दिलीप संघवी की जीवनी | Dilip Shanghvi success story in hindi

jr ntr biography in hindi | जूनियर एनटीआर जीवनी