सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

जनवरी, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ganesh ghosh biography in hindi

गणेश घोष की जीवनी जन्म : 22 जून, 1900 , बंगाल उपलब्धियां : स्वतंत्रता के बाद भी उन्होंने अनेक आंदोलनों में भाग लिया और अपने जीवन के लगभग 27 वर्ष जेलों में बिताए गणेश घोष बंगाली भारतीय स्वतंत्रता सेनानी, क्रांतिकारी और राजनीतिज्ञ थे। मानिकतल्ला बम कांड के सिलसिले में इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। 1928 में वे जेल से बाहर निकले और कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन में भाग लिया। सन 1946 में गणेश घोष कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य बन गए थे। वे 1952 में बंगाल विधान सभा के और 1967 में लोकसभा के सदस्य चुने गए।जेल यात्रा:जब गाँधी जी ने असहयोग आंदोलन स्थगित कर दिया तो गणेश कोलकाता के जादवपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में भर्ती हो गए। 1923 में उन्हें मानिकतल्ला बम कांड के सिलसिले में गिरफ्तार कर लिया गया। कोई प्रमाण न मिलने के कारण उन्हें सज़ा तो नहीं हुई पर सरकार ने 4 वर्ष के लिए नज़रबंद कर दिया था। सूर्य सेन से संपर्क: 1928 में वे बाहर निकले और कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन में भाग लिया। फिर वे प्रसिद्ध क्रांतिकारी सूर्य सेन के संपर्क में आए और शस्त्र बल से अंग्रेज़ों की सत्ता समाप्त करके